निकाय चुनाव 2017

भदोही। निकाय चुनाव के परिणाम को लेकर सभी लोगों की नजरें मतगणना पर टिकी हुई है। सात नगरों में किसके माथे सजेगा ताज और कौन बनेगा सरताज। गुरूवार को इसी को लेकर चर्चाओं की बयार बह निकली है। आईए सातों नगरों पर डालते हैं एक नजर।

भदोही नगर पालिका
यहां, भाजपा, सपा, बसपा समेत अन्य प्रत्याशियों ने किस्मत आजमाया है। लगातार दो बार यह सीट सपा के पास रही है। अब भाजपा और बसपा से सपा की जोरदार टक्कर हुई है। परिणाम का कल पता चलेगा। हालांकि यहां सपा और भाजपा दोनों की प्रतिष्ठा दांव पर है।

गोपीगंज नगर पालिका
राजमार्ग पर स्थित गोपीगंज नगर पालिका के चेयरमैन पद के लिए भाजपा के गगन गुप्ता, कांग्रेस के माबूद खां और सपा के अनिल जायसवाल की सीधी टक्कर निर्दल प्रत्याशी और निवर्तमान चेयरमैन प्रहलाददास गुप्ता से हुई है। परिणाम किस पाले में जाता है। इसका कुछ घंटों का इंतजार करना होगा।

ज्ञानपुर नगर पंचायत
यह सीट जिले की केन्द्र है। इस सीट पर तमाम प्रत्याशियों ने किस्मत आजमाया है, लेकिन बूथों पर भाजपा और सपा के बीच मुकाबला होता नजर आया था। भाजपा के हीरालाल मौर्य और सपा के घनश्यामदास गुप्ता में कौन दोबारा बनेगा चेयरमैन। यह कल का शुक्रवार ही तय करेगा।

सुरियावां, नई बाजार, घोसिया और खमरिया की दास्तां

इन चारों नगरों में भी भाजपा, सपा, बसपा, कांग्रेस के साथ निर्दलीय प्रत्याशियों में भी घमासान हुआ है। नगर निकाय के चुनाव में पहली बार BJP ने दमदारी से सपा के साथ अन्य दलों को चुनौती दिया तो वहीं निर्दलीय प्रत्याशियों से भाजपा को लोहा भी लेना पड़ा है।

दांव पर सपा-भाजपा की साख

निकाय चुनाव में सपा और भाजपा दोनों दलों की साख दांव पर है। सपा को अपनी तमाम सीटों को बचाने की प्रतिष्ठा का कल निर्णय होगा तो सत्ताधारी दल भाजपा के विकास और सबका साथ, सबका विकास के नारे की अग्नि परीक्षा भी है। इतना जरूर है कि कुछ सीटों पर निर्दलीयों ने दलों का सियासी समीकरण बिगाड़ कर रख दिया है, लेकिन कितना। यह भी आने कल पर निर्भर करेगा।