अन्ना हजारे (फाइल फोटो)

भदोही। भारतीय संबिधान के अनुच्छेद 243 जी में निहित शक्तियो के तहत देश के सभी ग्राम पंचायतो को केंद्र व राज्य सरकारे तीसरी सरकार के रूप में  मान्यता प्रदान करे। ताकि ग्राम पंचायतो को स्वशासन के अधिकार मिल सके। आजादी की दूसरी जंग को देश के प्रसिद्ध समाजसेवी अन्ना हजारे का भी समर्थन मिल गया है। यह बाते आज़ादी की दूसरी लड़ाई लड़ रहे ग्राम स्वराज क्रांति आंदोलन के संयोजक जयराम पाण्डेय ने कही। वे शनिवार की शाम ज्ञानपुर में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

उन्होंने देश व प्रदेशो में अब तक राज करने वाले सभी दलो की नीतियों पर जम कर प्रहार करते हुए सरकारो को आम जन बिरोधी होने की संज्ञा दी और आम जनता का आह्वान करते हुए कहा कि अब वह समय आ गया है जब देश की आम जनता अपने हक व अधिकारो के लिए केंद्र व राज्य सरकारो की दमनकारी भ्रस्ट नीतियों के खिलाफ आज़ादी की दूसरी लड़ाई लड़ने का शंखनाद करे। कहा कि ग्राम स्वराज क्रांति आंदोलन के नेतृत्व में देश के विभिन्न प्रदेशो में आंदोलन की सुरुवात की गई है। आम जनता इस आंदोलन में निशुल्क सदश्यता ग्रहण कर रही है।

जयराम पांडेय

बताया कि  जल्द ही देश के प्रसिद्ध समाजसेवी अन्ना हज़ारे का भी समर्थन इस आंदोलन को मिलने जा रहा है। इस आंदोलन में देश के एक दर्जन से ज्यादा सामाजिक संगठन सामिल हो कर आज़ादी की दूसरी लड़ाई को गांव गांव में पहुचायेंगे। उन्होंने कहा कि आगामी 23 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान में किसानो की समस्याओं तथा देश में व्याप्त भ्रस्टाचार, व जनलोकपाल को लेकर देश के प्रख्यात समाजसेवी अन्ना हज़ारे द्वारा अनशन व प्रदर्शन किया जायेगा। उक्त आंदोलन को सफलता प्रदान करने के लिए अन्ना हज़ारे देश के तमाम प्रदेशो व जिलो में आमजन सभा कर रहे है। वाराणसी में जल्द ही उनका कार्यक्रम निर्धारित होगा।

खास रिपोर्ट

कहा कि काशी की माटी से से ग्राम स्वराज क्रांति आंदोलन के बैनर तले आज़ादी की दूसरी लड़ाई की शुरुआत 2 अक्टूबर 2017 को उनके नेतृत्व में हुई थी। अब आज़ादी की दूसरी लड़ाई लड़ने के लिए अन्ना हज़ारे ने भी हुंकार भरी है। बताया कि अन्ना हज़ारे ने 24 दिसम्बर को संभल में अपनी जन सभा में लोगो को संबोधित करते हुए कहा था कि अब समय आगया है आमजन आज़ादी की दूसरी लड़ाई लड़ने को तैयार रहे।