भदोही/विन्ध्याचल/मिर्जापुर। विन्ध्य मंडल का प्रमुख जिला और काशी प्रयाग के मध्य महर्षि बाल्मीकि की तपोस्थली के रूप में विख्यात कालीन नगरी भदोही की सियासी फिजा को आज पंख लगेगा। साथ ही ज्ञान की नगरी ज्ञानपुर से आज सियासी महासमर का आगाज होगा। दूसरी तरफ ज्ञानपुर के सियासी महारथी विधायक विजय मिश्रा और उनके पुत्र विष्णु मिश्रा ने हमेशा की तरह आज भी मां विंध्यवासिनी के दरबार में शीश नवाया और क्षेत्र की खुशहाली की मंगल कामना की। बहरहाल, आज की तारीख की यह तस्वीर इस लिए भी खास मायने रखती है कि सिर्फ भदोही ही नहीं, बल्कि पूर्वांचल की एक बड़ी सियासी ताकत बन चुके विधायक पंडित विजय मिश्रा अपने बेहिसाब समर्थकों में लोकप्रियता की वजह से आगामी महासमर के महारथी से कम नहीं है।

भदोही में भाजपा आज चुनाव संचालन समिति की बैठक कर अपने मिशन 2019 का आगाज करने जा रही है। ज्ञानपुर में प्रदेश सरकार के मंत्री नंद गोपाल नंदी और एक प्रदेश पदाधिकारी के रूप में संजय राय का आगमन होगा। इस बैठक में बीजेपी रणनीति तय करेगी। यह रणनीति क्या और कैसी होगी यह तो संगठन ही जाने लेकिन भदोही की एक और बड़ी सियासी फिजा जन मानस के लिहाज से लोकप्रियता की पराकाष्ठा पर पहुंचे ज्ञानपुर विधायक पंडित विजय मिश्रा के इर्द-गिर्द घूमती है। सियासी महासमर के आगाज से पहले एक तरफ जहां, विधायक ज्ञानपुर पंडित विजय मिश्रा ने मां विंध्यवासिनी दरबार में नियमित दर्शन कर अपने पुत्र के साथ मातारानी का आशीष लिया तो दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी की शह पर एक बड़े सजायाफ्ता माफिया के बेटे का पोस्टर लगाकर लोस चुनाव के बहाने भदोही की शांत फिजा में भय का जहर घोलने की कोशिश होने की बात भी सामने आ रही है। यह माफिया फिलहाल, जेल में निरुद्ध है।

कुल मिलाकर भदोही की सियासी फिजा अगडाई लेने लगी है। महासमर की तैयारियां शुरू हो गई है। आने वाले दिनों में एेसे तमाम वो नेता भी जिले में सक्रिय होकर घूमते नजर आने लगेंगे, जिनके चेहरे लंबे समय से जनता के बीच से ओझल रहे हैं। इसमें पूर्व सांसद, पूर्व मंत्री समेत अनेक लग्जरी वाहनों से भौकाल दिखाने वाले तमाम छुटभैया नेता भी शामिल हैं।