मखमली ताने बाने के हुनर से जब हुए यह मस्त तो पहुंचे मस्त

भदोही। भारतीय कालीन एक्सपो के 37 वें संस्करण का हस्तनिर्मित कालीनों और अन्य मंजिलों के लिए एक विशेष व्यापार मेला, कालीन निर्यात संवर्धन परिषद द्वारा नई दिल्ली के ओखला एनएसआईसी के प्रदर्शनी हाल में आयोजित किया गया। कालीन मेले के तीसरे दिन भदोही के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त पहुंचे। जहां पर उन्होंने मेले का अवलोकन किया।

इस दौरान सीईपीसी द्वारा 10 मार्च को कालीन मेले की शुरुआत की गई थी। जिसका उद्घाटन केंद्रीय वस्त्र सचिव राघवेन्द्र सिंह ने किया था। जहां पर देश भर से आए 225 निर्यातकों द्वारा वहां पर स्टाल लगाया गया है। चार दिवसीय यह कालीन एक्सपो 13 मार्च 2019 तक कारोबार के लिए खुला रहेगा। कालीन मेले के तीसरे दिन 259 की संख्या में विदेशी आयातकों ने शिरकत की। वहीं 260 की संख्या में विदेशी ग्राहकों के भारतीय प्रतिनिधियों ने भी प्रतिभाग कर प्रदर्शनी का अवलोकन किया। आयातकों व उसके भारतीय प्रतिनिधियों ने स्टालों पर पहुंच कर निर्यातकों से उनके द्वारा लगाए गए कालीनों के बारे में व्यापारिक पूछताछ की।

मेले के तीसरे दिन भदोही के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त व केंदिय वाणिज्य विभाग के निदेशक एन रमेश भी पहुंचे। उन्होंने भी मेले का अवलोकन किया और निर्यातकों द्वारा तैयार किए गए कालीनों की सराहना की। सीईपीसी द्वारा सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त हो पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया गया। इस मौके पर सीईपीसी के अध्यक्ष महावीर प्रसाद शर्मा, प्रशासनिक सदस्य उमेश कुमार मुन्ना भाई, हाजी अब्दुल रब अंसारी, राजेंद्र प्रसाद मिश्र आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

1 thought on “मखमली ताने बाने के हुनर से जब हुए यह मस्त तो पहुंचे मस्त”

Comments are closed.