भदोही। यह खबर थोड़ी सी नई और थोड़ी पुरानी भी है। आज हम बात कर रहे है चौकीदार की।
उस चौकीदार की जो जनता के बीच उनकी हितों के प्रति सदैव समर्पित रहे। चाहे वह कितनी घातक बीमारी हो या फिर देश में आतंकवाद का नासूर। दोनों ही सूरत में बचाव चौकीदार की सजगता से ही संभव है। सजग रहे तो झुक जाएगी दुनियां और सतर्क रहे तो बड़ी से बड़ी बीमारी का भी रूख मोड़ा जा सकता है और यही है अजब संयोग की गजब कहानी जो आज देश से लेकर क्षेत्र तक में देखने को मिल रहा है।

सबसे पहले देश की बात

देश में आतंकवाद नासूर बन चुका है तो क्षेत्र में कैंसर की बीमारी। बात देश की करें तो जिस तरह से देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आतंकवाद के दमन की दिशा में कदम उठाने के साथ ही चौकीदार की महत्ता को दर्शाया है…आज वह दुनियां भर में आतंकवाद के खिलाफ विश्वव्यापी जंग की नींव की तरह चर्चित हैं। भारत के साथ ही ईरान और न्यूजीलैंड जैसी घटना के बाद आतंक के खिलाफ दुनिया भर में गूंज बनकर उभरी है तो दूसरी तरफ भदोही जिलें में भी कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाव की दिशा में क्षेत्र के चौकीदार की सजगता आज भी चर्चा का विषय बनी।


यह है अजब संयोग की गजब कहानी

जी हां, यह अजब संयोग की गजब कहानी है। ज्ञानपुर विधानसभा क्षेत्र से लगातार चौथी बार विधायक विजय मिश्रा ने कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाव को मुहिम छेड़ रखा है। जिलेटिन, पालीथीन और प्लास्टिक का प्रयोग नहीं करने को पिछले कई वर्षों से मुहिम छेड़ने वाले विधायक को जिले के गांवों में साढ़े बारह सौ सोलर वाटर पंपों के लगने के बाद कैंसर जैसी घातक बीमारी से काफी बचाव की न सिर्फ उम्मीदें हैं बल्कि वह प्रेसवार्ता में भी स्वीकारे कि लोगों के लिए घातक बीमारी से बचाव का यह बेहतरीन जरिया साबित होगा। पिछले वर्ष भदोही के डार्क जोन से निकलने के बाद यह संभव हो सका है। खुद को पिछले कई वर्षों से क्षेत्र का चौकीदार बताने वाले विधायक का कहना रहा कि उनके पास कैंसर जैसी घातक बीमारी के उपचार के लिए सहायता को लोग आते रहे, जिसके बाद उन्होंने लोगों को पिछले कई वर्षों से जागरूक करना शुरू किया। अब इसे गति मिली है। कुल मिलाकर क्षेत्र के इस चौकीदार ने कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाव की दिशा में लोगों के बीच जागरूकता मुहिम को जारी रख चौकीदार के रूप में चर्चा में हैं।