भदोही। पूर्वांचल की हर एक लोकसभा सीट भाजपा न सिर्फ पैनी नजर रख रही है, बल्कि पार्टी कमजोर कड़ियों के साथ वह आंकड़े भी सर्वे टीम की रिपोर्ट से जान रही जिसकी वजह से पार्टी को नुकसान हो सकता है। मंगलवार जिले में पहुंची दिल्ली की टीम ने सभी तीन विधान सभाओं समेत संसदीय क्षेत्र के पांचों विधान सभा क्षेत्र से रिपोर्ट जुटायी। इस दौरान टीम के सामने दो अहम बातें जनता ने खुलकर रखी। इसमें वायरल वीडियो के कथित शब्दों से गहरी नाराजगी और टिकट वितरण में हुई चूक के बाद पार्टी की ओर से सहयोगी दल के पदाधिकारी विधायक विजय मिश्रा को चुनाव प्रचार में नहीं उतारना शामिल रहा। बहरहाल, सर्वे टीम कई स्थानों से अन्य आंकड़े जुटा कर पुर्वांचल की एक और बहुचर्चित चंदौली की सीट का हाल जानने रवाना हो चुकी है।

जी हां, भदोही जिले से बड़ी खबर है। गठबंधन की एकजुटता को हल्के में नहीं लेकर भाजपा इस बार पूर्वांचल समेत यूपी की एक-एक सीट पर जनता के रूझान, पार्टी की कमियां और अपनों का हाल जानने को सर्वे टीम का सहारा लिया है। यह टीम मंगलवार को दिन भर भदोही जिले की तीन समेत पांचों विधान सभा क्षेत्रों में जनता की नब्ज टटोलती रही। इस दौरान वायरल वीडियो समेत प्रत्याशी के उन तक नहीं पहुंचने, सहयोगी दल के बड़े नेताओं में विजय मिश्रा को अब तक प्रचार में नहीं उतारने, तमाम अगड़े समाज के बड़े नेताओं को एकजुटता से जनता के बीच नहीं पहुंचने जैसे सुझाव को रखा। डीआरएस नामक इस संस्था की सर्वे टीम में शामिल सदस्य वी. कुमार ने बताया वह सीटों का डेली रिपोर्टिंग करते हैं। देखने वाली बात यह होगी भदोही लोकसभा क्षेत्र में गठबंधन से मिल रही कड़ी टक्कर के बाद फीडबैक सर्वे करा रही भाजपा का अगला कदम क्या होता है।