भाजपा जिलाध्यक्ष विनय श्रीवास्तव

भदोही। जिले के भदोही, गोपीगंज और ज्ञानपुर में संत विवेकानंद की जयंती समारोह पूर्वक मनायी गयी। देखिए, कहां किसने कैसे मनायी विवेकानंद की जयंती और क्या कही बात।

स्वामी विवेकानंद के पदचिन्हों का अनुसरण करें अधिवक्ता: सत्येन्द्र

ज्ञानपुर। अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद जिला इकाई के ओर से अधिवक्ता सत्येन्द्र प्रताप सिंह के आवास पर स्वामी विवेकानन्द जयंती युवा अधिवक्ता दिवस के रूप में मनाया गया। इस दौरान विवेकानन्द के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। कार्यक्रम में अधिवक्ता परिषद से जुड़े पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अभाअप के जिला महामंत्री सत्येन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द विश्व पटल पर शिकागो विश्व धर्म सम्मेलन मे दिये गये उद्बोधन के बाद एक पहचान मिली। इस विश्व धर्म सम्मेलन में उन्होने भारत का प्रतिनिधित्व किया था। इस सम्मेलन से उनकी एक पहचान बन गया। क्योकि वहां बोलने के लिए सबसे कम समय दिया गया था। लेकिन इसके पश्चात ही युवा के बोलने के बाद उनके सम्मान में काफी देर तक तालिया बजती रही। स्वामी विवेकानन्द के बचपन का नाम नरेन्द्रनाथ था। उनके गुरू काली माता के भक्त स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने दिया था। नरेन्द्र अद्वितीय प्रतिभा के धनी थे और वेदांत पर काफी अच्छी पकड थी। विषयो के गहन चिंतन व अध्ययन में उनके बुद्घि विवेक को देखकर ही रामकृष्ण ने संयास के बाद विवेकानन्द नाम दिया। इस दौरान अन्य पदाधिकारियो ने स्वामी विवेकानन्द के विषय में प्रकाश डालते हुए उनके पद चिन्हो पर चलते हुए उनके विचारो को आत्मसात करने का आह्वïान किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से शेषमणि पाल, जयप्रकाश शर्मा, विकास पाण्डेय, जितेन्द्र, बड़ेलाल पासवान सहित काफी संख्या में लोग मौजूद रहे।

भदोही में जयंती

छात्रों से कहते थे स्वामी जी पक्के मनुष्य बने: विनय श्रीवास्तव

गोपीगंज( भदोही ) स्वामी विवेकानंद जी की 157वाँ जन्मोत्सव संत विवेकानंद उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गोपीगंज में गायत्री परिवार ट्रस्ट द्वारा धूमधाम से मनाया गया| कार्यक्रम का शुभारंभ भाजपा जिला अध्यक्ष विनय कुमार श्रीवास्तव ने दीप प्रज्वलित कर विवेकानंद के चित्र पर माल्यार्पण कर किया|
जिला अध्यक्ष ने कहा कि विद्यार्थियों से स्वामी जी अक्सर कहा करते थे कि पक्के मनुष्य बनो धर्म की राह पर चलो घबराओ नहीं तुम जय के पीछे नहीं दौड़ो जय तुम्हारे पीछे दौड़ेगी |भारतीयता में भारत माता की लाडली संतान होने के भाव भरे हैं इसमें भारत की मिट्टी की सोंधी सुगंध से अपनत्व का एहसास है| कहा कि यही वह भावना है जो कश्मीर से कन्याकुमारी तक हम सभी भारतवासी भाई बहनों को स्नेह संबंधों के धागों में भी पिरोती है|
जिला उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष ज्ञानेश्वर प्रसाद अग्रवाल ने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी अपनी सभाओं में कहते थे कि भारत के राष्ट्रीय आदर्श है त्याग और सेवा आप इन धाराओं में तीव्रता उत्पन्न कीजिए और शेष सब अपने आप ठीक हो जाएगा|
.. गायत्री परिवार के प्रदेश संयोजक राधेश्याम उपाध्याय संत जी ने कहा कि हमारी आध्यात्मिकता ही हमारा जीवन रक्त है यदि यह साफ बहता रहे यदि यह शुद्ध एवं सशक्त बना रहे तो सब कुछ ठीक है ।
गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार से पधारे नरेंद्र मिश्र जी ने संगीतमय गीत की धारा बहा कर के श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया विद्यालय के विद्यार्थियों ने बड़े ही मनोहारी सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए |समारोह में प्रमुख रूप से रमाकांत गुप्त ,विभूति नारायण सिंह, सुधीर कुमार सिंह, प्रकाश चंद्र, श्रीकांत जायसवाल, सर्वेश नारायण शुक्ल, कृष्णानंद दुबे, रमाशंकर पाठक , दिनेश पांडे ,मदन सिंह, पवन कुमार शुक्ल , सर्वेश पाठक, अरुण कुमार गुप्त, शिव शंकर गुप्ता , कमला शंकर मिश्र ,प्रदीप गुप्ता, संतोष मोदनवाल सभासद, अंबिका अग्रहरि आदि उपस्थित थे कार्यक्रम का संचालन विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री अजय त्रिपाठी ने किया।

भदोही में चेयरमैन ने यह कही बात

स्वामी विवेकानंद जी की जयंती बड़े धूमधाम से भदोही विवेकानंद चौराहे पर मनाया गया माल्यार्पण कर एवं मिठाई बांटकर एक-दूसरे का मुंह मीठा करा कर जयंती को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जिसमें प्रमुख रुप से भदोही नगर पालिका के अध्यक्ष अशोक कुमार जायसवाल भदोही नगर मंडल अध्यक्ष दिलीप गुप्ता निवर्तमान नगर अध्यक्ष प्रिंस गुप्ता लालता सोनकर सत्यशील जयसवाल कामता चौरसिया अमित जायसवाल विकास सोनकर करुणा शंकर दुबे गिरधारी लाल जायसवाल अरविंद मौर्या राजीव मोदनवाल लालता सोनकर रामनरेश चौहान अशोक पाल आत्मीय दुबे आशुतोष दुबे आदि लोग प्रमुख रूप से रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here